मां के भक्त टीकम सिंह का ‘भंडारे’ वाला रेस्टोरेंट

मां के भक्त टीकम सिंह का ‘भंडारे’ वाला रेस्टोरेंट

टीम बदलाव

नोएडा एक्सटेंशन यानी एक ऐसा शहर जहां आपको बहुमंजिला इमारतें नजर आएंगी, लोगों की भागमभाग नजर आएगी. किसी को भी एक दूसरे के लिए वक्त नहीं नज़र आएगा । हर कोई पैसा कमाने के लिए दिन रात भागम-भाग में जुटा दिखेगा । ऐसे ही कंकरीट के जंगल में रहने वालों के लिए एक दिव्य और भव्य स्थान है जहां आपकी आस्था और सेहतद दोनों का पूरा इंतजाम है और वो भी फ्री. यानी अगर आप नोएडा एक्सटेंशन में रहते हैं तो जाहिर है खाने-पीने, बर्थडे पार्टी और शादी-विवाह के लिए मैरेज हॉल के लिए अपनी जेब ढिली करनी पड़ती होगी । लेकिन अगर आपको इसके लिए ज्यादा पैसे भी ना खर्च करने पड़े और तो और मैरेज हॉल और बर्थडे पार्टियों के लिए फ्री डेकोरेटेड हॉल मिल जाए तो फिर क्या कहना । सुनने में ये जितना अच्छा लग रहा है उस जगह पर जाना उससे भी ज्यादा सुखद होता है। हालांकि ये सब इतना आसान नहीं होता, लेकिन ये सब सच है और ये सब मुमकिन हुआ है मां के भक्त टीकम सिंह के भंडारेवाले रेस्टोरेंट की बतौलत.

 ग्रेटर नोएडा वेस्ट-2  का इलाका बरसों से पतवाड़ी गांव के नाम से मशहूर है और आज भी स्थानीय लोगों की जुबान पर पतवाड़ी का नाम ही पहले आता है और इसी पतवाड़ी गांव में अब मां का मंदिर भी पतवाड़ी धाम के नाम से पुकारा जाता है। जिसे करीब 3-4 साल पहले टीकम सिंह जी ने बनवाया था । इसी नौ माता दुर्गा मंदिर परिसर में अब आपकी सेहत का भी पूरा इंतजाम है ।

टीकम सिंह ने मंदिर परिसर में करीब 25 हजार स्क्वॉयर फीट में मां भोजनालय नाम से रेस्टोरेंट की शुरुआत की है । ये रेस्टोरेंट जितना खुला है उतना ही साफ-सुधरा भी। खास बात ये कि यहां कोरोना गाइड लाइन का पूरा पालन किया जाता है । मंदिर परिसर में बने इस शानदार रेस्टोरेंट में बर्थडे पार्टी से लेकर शादी समारोह करने तक की सुविधा है और ये सब कुछ बिलकुल मुफ्त है। यानी हॉल की बुकिंग के लिए आपको एक भी पैसा नहीं देना पड़ेगा ।करीब 25 हजार स्क्वॉयरफीट में बने इस रेस्टोरेंट में बर्थडे पार्टी के लिए 30×30 का शानदार हॉल है तो शादी के लिए करीब 5 हजार स्क्वॉयर फीट में बना एक बेहतरीन मैरेज हॉल । जिसमें दूल्हा-दुल्हन के लिए दो वातानुकूलित कमरे भी हैं । मां के धाम में बने इस रेस्टोरेंट की सबसे बड़ी खासियत ये है कि यहां सिर्फ आपको ख़ाने का पैसा चुकाना पड़ता है । हॉल की बुकिंग का कोई भी चार्ज नहीं देना पड़ता । हालांकि इसके लिए आपको रेस्टोरेंट की कुछ आसान सी शर्तों को पूरा करना पड़ता है ।

इस रेस्टोरेंट में तीन तरह के हॉल हैं. अगर आपको 30 से कम लोगों के लिए हॉल की बुकिंग करनी है तो रेस्टोरेंट में करीब 30 सीट वाला हॉल मिलेगा. इस हॉल के लिए आपको पहले से बताने की जरूरत भी नहीं है । हालांकि अगर आप 30 से ज्यादा लोगों के साथ पार्टी करना चाहते हैं तो आपको पहले से हॉल की बुकिंग करानी पड़ेगी लेकिन इसके लिए आपको कोई पैसा देना नहीं पड़ेगा । बस आप जो खाना खाएंगे उसका पेमेंट आपको देना होगा । अगर आपको 100 से ज्यादा लोगों के साथ पार्टी करनी है तो 5 हजार स्क्वॉयर फीट में बने बेहतरीन हॉल की बुकिंग करानी पड़ेगी. पहले इस हॉल की बुकिंग 51 हजार रुपये में होती थी लेकिन अब टीकमसिंह जी ने उसे भी फ्री कर दिया है ।

अब आप ये जानना चाहेंगे कि आखिर इस रेस्टोरेंट में खाने का क्या चार्ज है तो यहां भी आम रेस्टोरेंट से सस्ता और लजीज खाना आपको मिलेगा। अगर आपने मैरेज हॉल की बुकिंग की है तो इसके लिए आपको 699 रुपये वाली थाली बुक करनी होगी, जिसमें स्नैक्स से लेकर खाना और स्वीट्स सब मिलाकर करीब 30 तरह के व्यंजन का स्वाद चखने के लिए आपको मिलेगा । अगर आप सिर्फ खाना खाने के लिए मां वैष्णव भोजनालय जाना चाहते हैं तो उसके लिए भी पूरा इंतजाम है । कोरोना काल होने की वजह से साफ सफाई और दो गज की दूरी का पूरा ख्याल रखा जाता है । यहां आप अलग-अलग व्यंजनों का चार्ज देकर खाने का लुत्फ उठा सकते है। यहां आपको 51 रुपये की मां थाली भी मिलती है जो किसी भी रेस्टोरेंट में शायद नहीं मिलेगी । मां थाली में दो तंदूरी रोटी, चावल-दाल और दो सब्जी मिलती है.

टीकम सिंह से बातचीत के दौरान कुछ ऐसी बातें पता चलीं जो शायद बड़े-बड़े रेस्टोरेंट में मुमकिन नहीं। जैसे मां वैष्णव भोजनालय में बनने वाले खाने में हाईजीन का पूरा ख्याल तो रखा ही जाता है साथ ही टीकम सिंह की कोशिश है कि खाने में पूरी तरह जैविक फसलों और साग-सब्जियों का इस्तेमाल किया जाए । टीकम सिंह ने बताया कि करीब 50-60 फीसदी आर्गेनिक सब्जियों का इस्तेमाल शुरू हो चुका है. ये सब्जियां टीमक सिंह खुद अपने-आसपास के किसानों से जैविक खेती को बढ़ावा देकर खुद उगवाते हैं और उसे खुद खरीदते भी हैं । यही नहीं टीमक सिंह की योजना है कि वो जल्द ही 100 फीसदी ऑर्गेनिक सब्जियों और सभी व्यंजन ग्राहक तक पहुंचाएं । इसके लिए नोएडा से बाहर भी वो जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए उत्पादन शुरू करा चुके हैं ।

टीकम सिंह के रेस्टोरेंट में करीब 70 लोग काम करते हैं। जिनमें से अलग-अलग राज्यों के लोग हैं । जिसमें कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके गांव में खेती होती है। टीकम सिंह ऐसे कुछ लोगों के घरवालों से संपर्क कर उनके गांव में जैविक खेती के लिए प्रोत्साहित करने में भी जुट गए हैं और मध्य प्रदेश के कुछ गांवों में जैविक खेती का उत्पादन भी शुरू करा चुके हैं । टीकम सिंह का कहना है कि उनकी कोशिश है कि उनके यहां काम करने वाले लोगों के गांव में जो जैविक खेती से उत्पादन होगा उसे वो एमएसपी से ज्यादा दाम पर खरीदेंगे और अपने रेस्टोरेंट में इस्तेमाल करेंगे । जब टीकम सिंह से सवाल किया गया कि आखिर जैविक खेती का ख्याल दिमाग में क्यों आया तो उनका जवाब था कि इसकी प्रेरणा उनको पिता से मिली । उनके पिता ने 80 दशक तक बाहर का खाना खाने की बजाय घर का खाना खाया और जीवन भर निरोग रहे । ऐसे में अगर आम लोगों को भी जैविक और ऑर्गेनिक उत्पादन की चीजें परोसी जाएं तो आने वाली पीढ़ी ना सिर्फ मानसिक रूप से स्वस्थ रहेगी बल्कि शारीरिक रूप से भी स्वस्थ होगी ।

इसके लिए टीकम सिंह पशुपालन भी शुरू कर चुके हैं। जहां से आने वाले दूध का इस्तेमाल रेस्टोरेंट में होने वाले व्यंजनों के लिए किया जाता है। इस रेस्टोरेंट में आपको स्वादिस्ट मिठाइयां भी मिल जाएंगी .

मां वैष्ण भोजनालय परिसर में मां दुर्गा का भव्य मंदिर है जिसमें मां के सभी 9 स्वरूप की देवियां विराजमान हैं । इस मंदिर परिसर के बगल में शनिदेव का भी भव्य मंदिर तैयार हो रहा है ।

अगर आप नोएडा एक्सटेंशन में रहते हैं तो फिर एक बार मां वैष्णव भोजनालय जरूर जाएं । ये भोजनालय ग्रेटर नोएडा सेक्टर 2 स्थित सेंट जॉन स्कूल और निराला ग्रीन्स अपार्टमेंट के बेहद करीब है ।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published.