विनोद कापड़ी ने जंगल में ढूंढी लुप्तप्राय इंसानी प्रजाति

विनोद कापड़ी

मधुर, अंबिका और सिरोही। जंगल में आपका करते हैं इंतज़ार।
मधुर, अंबिका और सिरोही। जंगल में आपका करते हैं इंतज़ार।

किसी ने सच ही कहा है कि ये दुनिया कुछ सनकी, जुनूनी और पागल लोगों के भरोसे ही चल रही है। ऐसे ही सनकी और जुनूनी लोगों से मिलना है तो आपको मधुर छाबड़ा और उनकी पत्नी अंबिका शाह से जरूर मिलना चाहिए। ये दोनों उतराखंड के पिथौरागढ़ जिले में गंगोलीहाट के पास The Misty Mountains Resorts में पाए जाते हैं। और ऐसी प्रजाति अब तकरीबन लुप्तप्राय ही है।

लुप्तप्राय इसलिए कि ऐसे ना के बराबर लोग ही होंगे जो परिवार का जमा जमाया कारोबार छोड़कर जंगल में जीवन जी रहे हैं। लुप्तप्राय इसलिए कि जिस जंगल में पैदल चलने का रास्ता ना हो , वहाँ इन्होंने अपने दम पर 4 किलोमीटर लंबी सड़क नाप दी है। और लुप्तप्राय इसलिए भी कि जब आप The Misty mountains resorts पहुँचेंगे तो यहाँ आपको कुछ भी ऐसा नहीं मिलेगा , जो बाक़ी जगह होता हो। यहाँ आपको हर जगह किसी का पागलपन ही नज़र आएगा। घर का पहाड़ी खाना या आपकी फ़रमाइश पर जैसा खाना आप कहें।

madhur-3बादल आप से जब-तब टकराते रहेंगे और चाय की चुस्कियों और सिगरेट के कश के बीच जब ये बादल आप से लुकाछिपी करेंगे तो आपको लगेगा कि जीवन में इससे पहले मैं कहाँ था ? कमरे भी कमरे नहीं , मधुर का पागलपन ही है। कमरों के अंदर ऐसी ऐसी जगह पर मधुर ने बेड बनवाएँ हैं , जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते।

जीवन में पागलपन देखना है और पागलपन को जीना है तो एक बार जरूर यहाँ आएँ। यक़ीन मानिए आपको मधुर के जंगल से प्यार हो जाएगा। रास्ता बहुत सीधा है। दिल्ली से काठगोदाम या हल्द्वानी .. और फिर हल्द्वानी से बेरीनाग के पास राईआगर से कुछ ही दूर, किसी से भी पूछ लीजिए राम मंदिर। राम मंदिर के पास मधुर अपनी गाड़ी भेज देते हैं। सलाह यही है कि आप मधुर की गाड़ी से ही आगे जाएँ। आपकी कार पार्क कर दी जाएगी। मधुर से आप सीधे भी बात कर सकते हैं – +91 80-06667722।

madhur-2मधुर के पिता का नैनीताल में अच्छा ख़ासा कारोबार है। मधुर जीवन में कुछ भी कर सकते थे पर उन्होंने जंगल का रास्ता चुना। और इस जंगल में उनकी साथी हैं अंबिका और अब दोनों की तीन महीने की बिटिया सुरूही भी। ये तीनों अब कुमाऊँ के जंगल में ही रहते हैं और जो भी मेहमान इनके पास आते हैं , उन्हें वो यादें दे जाते हैं। जिसके बाद आप यहाँ एक बार नहीं , बार बार आना चाहेंगे। हमने तो तय कर लिया है कि चाहे कुछ हो जाए , साल में तीन-चार दिन तो मधुर के जंगल में बिताने ही हैं।


VINOD AKPDI

विनोद कापड़ी/ मीडिया जगत की जानी मानी  हस्ती, स्टार न्यूज़ (एबीपी), इंडिया टीवी जैसे बड़े चैनलों में संपादकीय जिम्मेदारी संभाली। राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित फिल्मकार, इन दिनों  बॉलीवुड में नए-नए प्रयोग कर रहे हैं। इन सबसे इतर बेहद जिंदादिल इंसान, जिनकी जिंदादिली देख आप हर पल दंग हो सकते हैं।


शक्ति तेरे गुड़ की ढेली चुराने को जी चाहता है… पढ़ने के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *